Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 4.19 Download BG 4.19 as Image

⮪ BG 4.18 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 4.20⮫

Bhagavad Gita Chapter 4 Verse 19

भगवद् गीता अध्याय 4 श्लोक 19

यस्य सर्वे समारम्भाः कामसङ्कल्पवर्जिताः।
ज्ञानाग्निदग्धकर्माणं तमाहुः पण्डितं बुधाः।।4.19।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 4.19)

।।4.19।।जिसके सम्पूर्ण कर्मोंके आरम्भ संकल्प और कामनासे रहित हैं तथा जिसके सम्पूर्ण कर्म ज्ञानरूपी अग्निसे जल गये हैं उसको ज्ञानिजन भी पण्डित (बुद्धिमान्) कहते हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।4.19।। जिसके समस्त कार्य कामना और संकल्प से रहित हैं ऐसे उस ज्ञानरूप अग्नि के द्वारा भस्म हुये कर्मों वाले पुरुष को ज्ञानीजन पण्डित कहते हैं।।