Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 4.16 Download BG 4.16 as Image

⮪ BG 4.15 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 4.17⮫

Bhagavad Gita Chapter 4 Verse 16

भगवद् गीता अध्याय 4 श्लोक 16

किं कर्म किमकर्मेति कवयोऽप्यत्र मोहिताः।
तत्ते कर्म प्रवक्ष्यामि यज्ज्ञात्वा मोक्ष्यसेऽशुभात्।।4.16।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।4.16।। कर्म क्या है और अकर्म क्या है इस विषय में बुद्धिमान पुरुष भी भ्रमित हो जाते हैं। इसलिये मैं तुम्हें कर्म कहूँगा (अर्थात् कर्म और अकर्म का स्वरूप समझाऊँगा) जिसको जानकर तुम अशुभ (संसार बन्धन) से मुक्त हो जाओगे।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary

In the three previous verses Lord Krishna talks about performance of actions, now He promises to gives a detailed explanation that will dispel delusion about the nature of actions.