Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 3.33 Download BG 3.33 as Image

⮪ BG 3.32 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 3.34⮫

Bhagavad Gita Chapter 3 Verse 33

भगवद् गीता अध्याय 3 श्लोक 33

सदृशं चेष्टते स्वस्याः प्रकृतेर्ज्ञानवानपि।
प्रकृतिं यान्ति भूतानि निग्रहः किं करिष्यति।।3.33।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 3.33)

।।3.33।।सम्पूर्ण प्राणी प्रकृतिको प्राप्त होते हैं। ज्ञानी महापुरुष भी अपनी प्रकृतिके अनुसार चेष्टा करता है। फिर इसमें किसीका हठ क्या करेगा

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।3.33।। ज्ञानवान् पुरुष भी अपनी प्रकृति के अनुसार चेष्टा करता है। सभी प्राणी अपनी प्रकृति पर ही जाते हैं फिर इनमें (किसी का) निग्रह क्या करेगा।।