Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 2.55 Download BG 2.55 as Image

⮪ BG 2.54 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 2.56⮫

Bhagavad Gita Chapter 2 Verse 55

भगवद् गीता अध्याय 2 श्लोक 55

श्री भगवानुवाच
प्रजहाति यदा कामान् सर्वान् पार्थ मनोगतान्।
आत्मन्येवात्मना तुष्टः स्थितप्रज्ञस्तदोच्यते।।2.55।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 2.55)

।।2.55।।श्रीभगवान् बोले हे पृथानन्दन जिस कालमें साधक मनोगत सम्पूर्ण कामनाओंका अच्छी तरह त्याग कर देता है और अपनेआपसे अपनेआपमें ही सन्तुष्ट रहता है उस कालमें वह स्थितप्रज्ञ कहा जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।2.55।। श्री भगवान् ने कहा -- हे पार्थ? जिस समय पुरुष मन में स्थित सब कामनाओं को त्याग देता है और आत्मा से ही आत्मा में सन्तुष्ट रहता है? उस समय वह स्थितप्रज्ञ कहलाता है।।