Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.72 Download BG 18.72 as Image

⮪ BG 18.71 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.73⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 72

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 72

कच्चिदेतच्छ्रुतं पार्थ त्वयैकाग्रेण चेतसा।
कच्चिदज्ञानसंमोहः प्रनष्टस्ते धनञ्जय।।18.72।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.72)

।।18.72।।हे पृथानन्दन क्या तुमने एकाग्रचित्तसे इसको सुना और हे धनञ्जय क्या तुम्हारा अज्ञानसे उत्पन्न मोह नष्ट हुआ

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.72।। हे पार्थ क्या इसे (मेरे उपदेश को) तुमने एकाग्रचित्त होकर श्रवण किया और हे धनञ्जय क्या तुम्हारा अज्ञान जनित संमोह पूर्णतया नष्ट हुआ