Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 17.28 Download BG 17.28 as Image

⮪ BG 17.27 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.1⮫

Bhagavad Gita Chapter 17 Verse 28

भगवद् गीता अध्याय 17 श्लोक 28

अश्रद्धया हुतं दत्तं तपस्तप्तं कृतं च यत्।
असदित्युच्यते पार्थ न च तत्प्रेत्य नो इह।।17.28।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 17.28)

।।17.28।।हे पार्थ अश्रद्धासे किया हुआ हवन? दिया हुआ दान और तपा हुआ तप तथा और भी जो,कुछ किया जाय? वह सब असत् -- ऐसा कहा जाता है। उसका फल न यहाँ होता है? न मरनेके बाद ही होता है अर्थात् उसका कहीं भी सत् फल नहीं होता।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।17.28।। हे पार्थ जो यज्ञ? दान? तप और कर्म अश्रद्धापूर्वक किया जाता है? वह असत् कहा जाता है वह न इस लोक में (इह) और न मरण के पश्चात् (उस लोक में) लाभदायक होता है।।