Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 16.21 Download BG 16.21 as Image

⮪ BG 16.20 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 16.22⮫

Bhagavad Gita Chapter 16 Verse 21

भगवद् गीता अध्याय 16 श्लोक 21

त्रिविधं नरकस्येदं द्वारं नाशनमात्मनः।
कामः क्रोधस्तथा लोभस्तस्मादेतत्त्रयं त्यजेत्।।16.21।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 16.21)

।।16.21।।काम? क्रोध और लोभ -- ये तीन प्रकारके नरकके दरवाजे जीवात्माका पतन करनेवाले हैं? इसलिये इन तीनोंका त्याग कर देना चाहिये।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।16.21।। काम? क्रोध और लोभ ये आत्मनाश के त्रिविध द्वार हैं? इसलिए इन तीनों को त्याग देना चाहिए।।