Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 16.16 Download BG 16.16 as Image

⮪ BG 16.15 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 16.17⮫

Bhagavad Gita Chapter 16 Verse 16

भगवद् गीता अध्याय 16 श्लोक 16

अनेकचित्तविभ्रान्ता मोहजालसमावृताः।
प्रसक्ताः कामभोगेषु पतन्ति नरकेऽशुचौ।।16.16।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 16.16)

।।16.16।।कामनाओंके कारण तरहतरहसे भ्रमित चित्तवाले? मोहजालमें अच्छी तरहसे फँसे हुए तथा पदार्थों और भोगोंमें अत्यन्त आसक्त रहनेवाले मनुष्य भयङ्कर नरकोंमें गिरते हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।16.16।। अनेक प्रकार से भ्रमित चित्त वाले? मोह जाल में फँसे तथा विषयभोगों में आसक्त ये लोग घोर? अपवित्र नरक में गिरते हैं।।