Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 16.1 Download BG 16.1 as Image

⮪ BG 15.20 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 16.2⮫

Bhagavad Gita Chapter 16 Verse 1

भगवद् गीता अध्याय 16 श्लोक 1

श्री भगवानुवाच
अभयं सत्त्वसंशुद्धिः ज्ञानयोगव्यवस्थितिः।
दानं दमश्च यज्ञश्च स्वाध्यायस्तप आर्जवम्।।16.1।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 16.1)

।।16.1।।श्रीभगवान् बोले -- भयका सर्वथा अभाव अन्तःकरणकी शुद्धि ज्ञानके लिये योगमें दृढ़ स्थिति सात्त्विक दान इन्द्रियोंका दमन यज्ञ स्वाध्याय कर्तव्यपालनके लिये कष्ट सहना शरीरमनवाणीकी सरलता।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।16.1।। श्री भगवान् ने कहा -- अभय? अन्तकरण की शुद्धि? ज्ञानयोग में दृढ़ स्थिति? दान? दम? यज्ञ? स्वाध्याय? तप और आर्जव।।