Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 14.20 Download BG 14.20 as Image

⮪ BG 14.19 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 14.21⮫

Bhagavad Gita Chapter 14 Verse 20

भगवद् गीता अध्याय 14 श्लोक 20

गुणानेतानतीत्य त्रीन्देही देहसमुद्भवान्।
जन्ममृत्युजरादुःखैर्विमुक्तोऽमृतमश्नुते।।14.20।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 14.20)

।।14.20।।देहधारी (विवेकी मनुष्य) देहको उत्पन्न करनेवाले इन तीनों गुणोंका अतिक्रमण करके जन्म? मृत्यु और वृद्धावस्थारूप दुःखोंसे रहित हुआ अमरताका अनुभव करता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।14.20।। यह देही पुरुष शरीर की उत्पत्ति के कारणरूप तीनों गुणों से अतीत होकर जन्म? मृत्यु? जरा और दुखों से विमुक्त हुआ अमृतत्व को प्राप्त होता है।।