Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 14.16 Download BG 14.16 as Image

⮪ BG 14.15 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 14.17⮫

Bhagavad Gita Chapter 14 Verse 16

भगवद् गीता अध्याय 14 श्लोक 16

कर्मणः सुकृतस्याहुः सात्त्विकं निर्मलं फलम्।
रजसस्तु फलं दुःखमज्ञानं तमसः फलम्।।14.16।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 14.16)

।।14.16।।(विवेकी पुरुषोंने) शुभकर्मका तो सात्त्विक निर्मल फल कहा है? राजस कर्मका फल दुःख कहा है और तामस कर्मका फल अज्ञान (मूढ़ता) कहा है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।14.16।। शुभ कर्म का फल सात्विक और निर्मल कहा गया है रजोगुण का फल दुख और तमोगुण का फल अज्ञान है।।