Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 13.7 Download BG 13.7 as Image

⮪ BG 13.6 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 13.8⮫

Bhagavad Gita Chapter 13 Verse 7

भगवद् गीता अध्याय 13 श्लोक 7

इच्छा द्वेषः सुखं दुःखं सङ्घातश्चेतनाधृतिः।
एतत्क्षेत्रं समासेन सविकारमुदाहृतम्।।13.7।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 13.7)

।।13.7।।इच्छा? द्वेष? सुख? दुःख? संघात? चेतना (प्राणशक्ति) और धृति -- इन विकारोंसहित यह क्षेत्र संक्षेपसे कहा गया है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।13.7।। इच्छा? द्वेष? सुख? दुख? संघात (स्थूलदेह)? चेतना (अन्तकरण की चेतन वृत्ति) तथा धृति इस प्रकार यह क्षेत्र विकारों के सहित संक्षेप में कहा गया है।।