Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.54 Download BG 11.54 as Image

⮪ BG 11.53 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 11.55⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 54

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 54

भक्त्या त्वनन्यया शक्यमहमेवंविधोऽर्जुन।
ज्ञातुं दृष्टुं च तत्त्वेन प्रवेष्टुं च परंतप।।11.54।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 11.54)

।।11.54।।परन्तु हे शत्रुतापन अर्जुन इस प्रकार (चतुर्भुजरूपवाला) मैं अनन्यभक्तिसे ही तत्त्वसे जाननेमें? सगुणरूपसे देखनेमें और प्राप्त करनेमें शक्य हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।11.54।। परन्तु हे परन्तप अर्जुन अनन्य भक्ति के द्वारा मैं तत्त्वत जानने? देखने और प्रवेश करने के लिए (एकी भाव से प्राप्त होने के लिए) भी? शक्य हूँ।।