Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.53 Download BG 11.53 as Image

⮪ BG 11.52 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 11.54⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 53

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 53

नाहं वेदैर्न तपसा न दानेन न चेज्यया।
शक्य एवंविधो द्रष्टुं दृष्टवानसि मां यथा।।11.53।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।11.53।। न वेदों से? न तप से? न दान से और न यज्ञ से ही मैं इस प्रकार देखा जा सकता हूँ? जैसा कि तुमने मुझे देखा है।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary