Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.6 Download BG 10.6 as Image

⮪ BG 10.5 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.7⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 6

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 6

महर्षयः सप्त पूर्वे चत्वारो मनवस्तथा।
मद्भावा मानसा जाता येषां लोक इमाः प्रजाः।।10.6।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.6)

।।10.6।।सात महर्षि और उनसे भी पूर्वमें होनेवाले चार सनकादि तथा चौदह मनु -- ये सबकेसब मेरे मनसे पैदा हुए हैं और मेरेमें भाव (श्रद्धाभक्ति) रखनेवाले हैं? जिनकी संसारमें यह सम्पूर्ण प्रजा है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.6।। सात महर्षिजन? पूर्वकाल के चार (सनकादि) तथा (चौदह) मनु ये मेरे प्रभाव वाले मेरे संकल्प से उत्पन्न हुए हैं? जिनकी संसार (लोक) में यह प्रजा है।।