Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.28 Download BG 10.28 as Image

⮪ BG 10.27 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 10.29⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 28

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 28

आयुधानामहं वज्रं धेनूनामस्मि कामधुक्।
प्रजनश्चास्मि कन्दर्पः सर्पाणामस्मि वासुकिः।।10.28।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.28।। मैं शस्त्रों में वज्र और धेनुओं (गायों) में कामधेनु हूँ? प्रजा उत्पत्ति का हेतु कन्दर्प (कामदेव) मैं हूँ और सर्पों में वासुकि हूँ।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary