Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.2 Download BG 10.2 as Image

⮪ BG 10.1 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.3⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 2

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 2

न मे विदुः सुरगणाः प्रभवं न महर्षयः।
अहमादिर्हि देवानां महर्षीणां च सर्वशः।।10.2।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.2)

।।10.2।।मेरे प्रकट होनेको न देवता जानते हैं और न महर्षि क्योंकि मैं सब प्रकारसे देवताओं और महर्षियोंका आदि हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.2।। मेरी उत्पत्ति (प्रभव) को न देवतागण जानते हैं और न महर्षिजन क्योंकि मैं सब प्रकार से देवताओं और महर्षियों का भी आदिकारण हूँ।।