Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.16 Download BG 10.16 as Image

⮪ BG 10.15 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.17⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 16

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 16

वक्तुमर्हस्यशेषेण दिव्या ह्यात्मविभूतयः।
याभिर्विभूतिभिर्लोकानिमांस्त्वं व्याप्य तिष्ठसि।।10.16।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.16)

।।10.16।।जिन विभूतियोंसे आप इन सम्पूर्ण लोकोंको व्याप्त करके स्थित हैं? उन सभी अपनी दिव्य विभूतियोंका सम्पूर्णतासे वर्णन करनेमें आप ही समर्थ हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.16।। आप ही उन अपनी दिव्य विभूतियों को अशेषत कहने के लिए योग्य हैं? जिन विभूतियों के द्वारा इन समस्त लोकों को आप व्याप्त करके स्थित हैं।।