Share this page on following platforms.

Home Singers Govind Bhargav ji

Shri Krishna Bhajan

Apni Dhun Me Rehta Hu :by Govind Bhargav Ji

Shri Radhe Govinda - Govind Bhargav Ji

Prabhu Aapki Daya Se Sab Kaam Ho Raha Hai - Govind Bhargav Ji Mathura

Phir Kaahe kahe Hori Hori Holi :by Govind Bhargav Ji Mathura

More Mann Chal Vrindavan - Govind Bhargav Ji

Hare Krishna Hare Ram - Govind Bhargav Ji Mathura

More Mukut Maathe Tilak Biraje :by Govind Bhargav Ji

Mope Tino Rang Daala Holi) Mathura

Mare Ghar Aaviji Pritam Pyare - Govind Bhargav Ji

Man Bhul mat Jaiyyo Radaha Rani Ke Charan - Govind Bhargav Ji

Mann Bus Gayo Nanadkishore bhajan by Govind Bhargav Ji

Mann Bus Gayo Nandkishore bhajan by Govind Bhargav Ji

Mein To Wari Jawa Bhajan By Shri Govind Bhargav Ji - Mathura

Mein Ratu Shree Radha Radha Naam :by Govind Bhargav Ji

Laadli Adbhut Nazara Tere Barsana Me Hai :by Govind Bhargav Ji

Ke Sajni Dole Chaliya Shyam Holi :by Govind Bhargav Ji Mathura

Shri Krishna Bhajan:by Govind Bhargav Ji

Jai Jai Shyam :by Govind Bhargav Ji

Ladli Shri Radhe by Govind Bhargav Ji

Dagar Jao Shyam by Govind Bhargav Ji - Mathura

Bhajo Radheshyam Hare Krishna Hare Ram Bhajan by Govind Bhargav Ji

Tere Naina - Govind Bhargav Ji

Tere Bagar Sawariya - Govind Bhargav Ji

Shri Vrindavan Vrindavan Kaho Re - Govind Bhargav Ji Mathura

Contents of this list:

Apni Dhun Me Rehta Hu :by Govind Bhargav Ji
Shri Radhe Govinda - Govind Bhargav Ji
Prabhu Aapki Daya Se Sab Kaam Ho Raha Hai - Govind Bhargav Ji Mathura
Phir Kaahe kahe Hori Hori Holi :by Govind Bhargav Ji Mathura
More Mann Chal Vrindavan - Govind Bhargav Ji
Hare Krishna Hare Ram - Govind Bhargav Ji Mathura
More Mukut Maathe Tilak Biraje :by Govind Bhargav Ji
Mope Tino Rang Daala Holi) Mathura
Mare Ghar Aaviji Pritam Pyare - Govind Bhargav Ji
Man Bhul mat Jaiyyo Radaha Rani Ke Charan - Govind Bhargav Ji
Mann Bus Gayo Nanadkishore bhajan by Govind Bhargav Ji
Mann Bus Gayo Nandkishore bhajan by Govind Bhargav Ji
Mein To Wari Jawa Bhajan By Shri Govind Bhargav Ji - Mathura
Mein Ratu Shree Radha Radha Naam :by Govind Bhargav Ji
Laadli Adbhut Nazara Tere Barsana Me Hai :by Govind Bhargav Ji
Ke Sajni Dole Chaliya Shyam Holi :by Govind Bhargav Ji Mathura
Shri Krishna Bhajan:by Govind Bhargav Ji
Jai Jai Shyam :by Govind Bhargav Ji
Ladli Shri Radhe by Govind Bhargav Ji
Dagar Jao Shyam by Govind Bhargav Ji - Mathura
Bhajo Radheshyam Hare Krishna Hare Ram Bhajan by Govind Bhargav Ji
Tere Naina - Govind Bhargav Ji
Tere Bagar Sawariya - Govind Bhargav Ji
Shri Vrindavan Vrindavan Kaho Re - Govind Bhargav Ji Mathura

Bhajan Lyrics View All

कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा