Share this page on following platforms.

Home Singers Govind Bhargav ji

Shri Govind Bhargav ji at Kolkata 4 January, 2015

Surat pe thari girdhari main wari jawan by Shri Govind Bhargav ji Kolkata 2015

Vrindavan Mein Shri Charnan Mein Humko Rehna hai ... by Sh. Govind Bhargav Ji KolKata 2015

Sawal Sa Girdhari Bhala Ho Rama by Sh. Govind Bhargav Ji KolKata 2015

Radha Rani Hamari Sarkar Fikar by Sh. Govind Bhargav Ji KolKata 2015

Tu Ek Bar Aja Aja Banke Sawarya Sh. Govind Bhargav Ji Kolkata2015

Tere Bagair Sawariya Jiya Nhi Jaye by Sh. Govind Bhargav Ji KolKata 2015

Mangal Gao Chowk Sajao by Sh. Govind Bhargav Ji Kolkata 2015

Tu More Man Chal Vrindavan Dhaam by Sh. Govind Bhargav Ji Kolkata 2015

Soja re lal soja ... Lori by Shri Govind Bhargav ji at Jaipur 26.10.2015

Contents of this list:

Surat pe thari girdhari main wari jawan by Shri Govind Bhargav ji Kolkata 2015
Vrindavan Mein Shri Charnan Mein Humko Rehna hai ... by Sh. Govind Bhargav Ji KolKata 2015
Sawal Sa Girdhari Bhala Ho Rama by Sh. Govind Bhargav Ji KolKata 2015
Radha Rani Hamari Sarkar Fikar by Sh. Govind Bhargav Ji KolKata 2015
Tu Ek Bar Aja Aja Banke Sawarya Sh. Govind Bhargav Ji Kolkata2015
Tere Bagair Sawariya Jiya Nhi Jaye by Sh. Govind Bhargav Ji KolKata 2015
Mangal Gao Chowk Sajao by Sh. Govind Bhargav Ji Kolkata 2015
Tu More Man Chal Vrindavan Dhaam by Sh. Govind Bhargav Ji Kolkata 2015
Soja re lal soja ... Lori by Shri Govind Bhargav ji at Jaipur 26.10.2015

Bhajan Lyrics View All

मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,