Share this page on following platforms.

Home Singers Govind Bhargav ji

श्री गोविन्द भार्गव जी - मुरादाबाद 07.04.2016

तुमहमारे थे प्रभु जी श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016

गुजरीा ले गई श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016

मेरो खो गयो बाजूबंध श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016

लाड़ली अधभुत नजारा तेरेबरसाने श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016

मिठे रस से भरोरे श्री राधा रानी श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016

वृंदावन धाम अपार जापे जा राधे श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016

जुगल सरकार है सर पर तसली श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016

जय जय शयमा जय जय श्याम श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016

Contents of this list:

तुमहमारे थे प्रभु जी श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016
गुजरीा ले गई श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016
मेरो खो गयो बाजूबंध श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016
लाड़ली अधभुत नजारा तेरेबरसाने श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016
मिठे रस से भरोरे श्री राधा रानी श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016
वृंदावन धाम अपार जापे जा राधे श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016
जुगल सरकार है सर पर तसली श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016
जय जय शयमा जय जय श्याम श्री गोविन्द भार्गव जी मुरादाबाद 7-4-2016

Bhajan Lyrics View All

मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर