Share this page on following platforms.

Home Singers Govind Bhargav ji

Govind bhargav ji

Mohe Na Bisaro Mein Jan Tera, Krishna Bhajan by Shri Govind Bhargav Ji

SHRI GOVIND BHARGAV SINGING BHAJAN IN BRAJ2

Tum Hamare ho Prabhu Ji, Bhajan By Govind Bhargava Ji

tum hamare the prabhu ji(govind bhargav)

Govind bhargav Ji - Ladli Shri Radhe

Je Tu Na Fadada Saadi Ba [Full Song] - Basa Lo Vrindavan Mein

Menu mere malika aukat vich rakhi ,Sandeep Sehagal,Sai Maha Kumbh, Rahul Chabra,

Contents of this list:

Mohe Na Bisaro Mein Jan Tera, Krishna Bhajan by Shri Govind Bhargav Ji
SHRI GOVIND BHARGAV SINGING BHAJAN IN BRAJ2
Tum Hamare ho Prabhu Ji, Bhajan By Govind Bhargava Ji
tum hamare the prabhu ji(govind bhargav)
Govind bhargav Ji - Ladli Shri Radhe
Je Tu Na Fadada Saadi Ba [Full Song] - Basa Lo Vrindavan Mein
Menu mere malika aukat vich rakhi ,Sandeep Sehagal,Sai Maha Kumbh, Rahul Chabra,

Bhajan Lyrics View All

कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥