Share this page on following platforms.

Home Singers Chitra Vichitraji

RADHE RADHE

Dildar Yaar Pyare Krishna Bhajan By Sadhwi Poornima Ji [Full Song] Dildaar Yaar Pyare

Faridabad Sankirtan by Sadhvi Poornima Ji (Poonam Didi) on 30th August

sadhvi purnima

Pujya Chitra Vichitra Ji Sadhvi Poonam Ji Bhajan Sandhya Talkatora Stadium (Delhi)

Contents of this list:

Dildar Yaar Pyare Krishna Bhajan By Sadhwi Poornima Ji [Full Song] Dildaar Yaar Pyare
Faridabad Sankirtan by Sadhvi Poornima Ji (Poonam Didi) on 30th August
sadhvi purnima
Pujya Chitra Vichitra Ji Sadhvi Poonam Ji Bhajan Sandhya Talkatora Stadium (Delhi)

Bhajan Lyrics View All

फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई