Share this page on following platforms.

Home More Bhagwad Gita

Bhagavad Gita songs

014 BHAGWAT GITA - control of mann song

009 BHAGWAT GITA - superficial mind mann song explained

021 BHAGWAT GITA - Narottam - supreme human song

042 BHAGWAT GITA - sambuddhi yoga song

049 BHAGWAT GITA - the balanced neutral person Stith Pragya understanding song 1

050 BHAGWAT GITA - the balanced neutral person Stith Pragya understanding song 2

057 BHAGWAT GITA -indrinighrah - tortoise example

58 bhagwat gita -indrinighrah - tortoise example - song

060 BHAGWAT GITA - mithachari song

064 BHAGWAT GITA - Concentration in Vishayas invites self destruction Song

069 BHAGWAT GITA - Common Man vs Stithpragya

109 BHAGWAT GITA - God is everywhere Song

141 BHAGWAT GITA - Different Relations with God - Song.MPG

152 BHAGWAT GITA - God Reciprocates - Song

164 BHAGWAT GITA - Moksha - Song

175 BHAGWAT GITA - The Final Lesson by Lord - Song

Behti Rahi Geeta Ki Ganga

Contents of this list:

014 BHAGWAT GITA - control of mann song
009 BHAGWAT GITA - superficial mind mann song explained
021 BHAGWAT GITA - Narottam - supreme human song
042 BHAGWAT GITA - sambuddhi yoga song
049 BHAGWAT GITA - the balanced neutral person Stith Pragya understanding song 1
050 BHAGWAT GITA - the balanced neutral person Stith Pragya understanding song 2
057 BHAGWAT GITA -indrinighrah - tortoise example
58 bhagwat gita -indrinighrah - tortoise example - song
060 BHAGWAT GITA - mithachari song
064 BHAGWAT GITA - Concentration in Vishayas invites self destruction Song
069 BHAGWAT GITA - Common Man vs Stithpragya
109 BHAGWAT GITA - God is everywhere Song
141 BHAGWAT GITA - Different Relations with God - Song.MPG
152 BHAGWAT GITA - God Reciprocates - Song
164 BHAGWAT GITA - Moksha - Song
175 BHAGWAT GITA - The Final Lesson by Lord - Song
Behti Rahi Geeta Ki Ganga

Bhajan Lyrics View All

बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका