Share this page on following platforms.

Home More Bhagwad Gita

Bhagavad Gita (Pujya Guruvulu BrahmaSri Chaganti Koteswara Rao Garu) - Complete Videos Playlist

Bhagavad Gita (Part 1 of 8) Pravachanam By Sri Chaganti Koteswar Rao Gaaru

Bhagavat Gita Pravachanam (Part 2 of 8 ) By Chaganti Koteswar Rao Gaaru

Bhagavad Gita Part 3 of 8 Pravachanam By Chaganti Koteswar Rao Gaaru

Bhagavad Gita Pravachanam (Part- 4 of 8 ) By Chaganti Koteswar Rao Gaaru

Bhagavad Gita Pravachanam Part 5 of 8 By Chaganti Koteswar Rao Gaaru

Bhagavad Gita Pravachanam Part 6 of 8 By Sri Chaganti Koteswar Rao Gaaru

Bhagavad Gita Pravachanam Part 7 of 8 By Chaganti Koteswara Rao Gaaru

Bhagavad Gita Pravachanam Part 8 of 8 By Chaganti Koteswara Rao Gaaru

Contents of this list:

Bhagavad Gita (Part 1 of 8) Pravachanam By Sri Chaganti Koteswar Rao Gaaru
Bhagavat Gita Pravachanam (Part 2 of 8 ) By Chaganti Koteswar Rao Gaaru
Bhagavad Gita Part 3 of 8 Pravachanam By Chaganti Koteswar Rao Gaaru
Bhagavad Gita Pravachanam (Part- 4 of 8 ) By Chaganti Koteswar Rao Gaaru
Bhagavad Gita Pravachanam Part 5 of 8 By Chaganti Koteswar Rao Gaaru
Bhagavad Gita Pravachanam Part 6 of 8 By Sri Chaganti Koteswar Rao Gaaru
Bhagavad Gita Pravachanam Part 7 of 8 By Chaganti Koteswara Rao Gaaru
Bhagavad Gita Pravachanam Part 8 of 8 By Chaganti Koteswara Rao Gaaru

Bhajan Lyrics View All

बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से