Share this page on following platforms.

Home More Bhagwad Gita

Bhagavad Gita Course Journey Of Self Discovery Course (Gujarati) by Lal Govinda Das

Geeta Course 2011 Day 01 by H.G. Lal Govinda Das (Gujarati)

Geeta Course 2011 Day 02 by H.G. Lal Govinda Das (Gujarati)

Geeta Course 2011 Day 03 by H.G. Lal Govinda Das (Gujarati)

Geeta Course 2011 Day 04 by H.G. Lal Govinda Das (Gujarati)

Geeta Course 2011 Day 05 Part 01 by H.G Lal Govinda Das (Gujarati)

Geeta Course 2011 Day 05 Part 02 by H G Lal Govinda Das (Gujarati)

Geeta Course 2011 Day 06 Part 01 by H G Lal Govinda Das (Gujarati)

Geeta Course 2011 Day 06 Part 02 by H G Lal Govinda Das in Gujarati

Geeta Course 2011 Day 07 by H G Lal Govinda Das (Gujarati)

Contents of this list:

Geeta Course 2011 Day 01 by H.G. Lal Govinda Das (Gujarati)
Geeta Course 2011 Day 02 by H.G. Lal Govinda Das (Gujarati)
Geeta Course 2011 Day 03 by H.G. Lal Govinda Das (Gujarati)
Geeta Course 2011 Day 04 by H.G. Lal Govinda Das (Gujarati)
Geeta Course 2011 Day 05 Part 01 by H.G Lal Govinda Das (Gujarati)
Geeta Course 2011 Day 05 Part 02 by H G Lal Govinda Das (Gujarati)
Geeta Course 2011 Day 06 Part 01 by H G Lal Govinda Das (Gujarati)
Geeta Course 2011 Day 06 Part 02 by H G Lal Govinda Das in Gujarati
Geeta Course 2011 Day 07 by H G Lal Govinda Das (Gujarati)

Bhajan Lyrics View All

राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है