Share this page on following platforms.

Home More Bhagwad Gita

Bhagavad Gita by Garikapati Narsimha Rao

Contents of this list:

Nava Jeevana Vedam (14 - 01 -2014)
Nava Jeevana Vedam 15th January 2014 - Garikapati Narasimharao
Nava Jeevana Vedam (16 - 01 -2014)
Nava Jeevana Vedam (17 - 01 -2014)
Nava Jeevana Vedam (20 - 01 -2014)
Nava Jeevana Vedam (21 - 01 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (23 - 01 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (24 - 01 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (27 - 01 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (28 - 01 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (29 - 01 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (30 - 01 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (31 - 01 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (3 - 2 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (04 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (5 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (6 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (7 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (10 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (11 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (12 - 02 - 2014)
nava Nava Jeevana Vedam (13 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (14 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (17 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam ( - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam (19 - 02 - 2014)
Nava Jeevana Vedam
Nava Jeevana Vedam (21 - 2 - 2014 )
Nava Jeevana Vedam (24 - 2 - 2014 )
Nava Jeevana Vedam ( 25th - 2 - 2014 )
Nava Jeevana Vedam ( 26th - 2 - 2014 )
Nava Jeevana Vedam ( 27th - 2 - 2014 )
Nava Jeevana Vedam ( 28th - 2 - 2014 )

Bhajan Lyrics View All

राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की