Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

लगदा नहीं जी मेरा घर बार सोहणेया वे
हो गयी हां मैं मजबूर वे माहिआ,

लगदा नहीं जी मेरा घर बार सोहणेया वे
हो गयी हां मैं मजबूर वे माहिआ,
वृन्दावन जाना ए जरूर वे माहिआ

श्याम दे ख़यालां विच्च डूबी दिन रैन वे,
भूख प्यास मेरा खोया सुख चैन वे ।
मैनु ओहदा चड़ेया सरूर, वे माहिआ,
वृन्दावन जाना ए जरूर, वे माहिआ ॥

सस्स ननाण सारे ताने मेणे मारदे,
कर कर गल्लां मेरा तन मन साड़दे ।  
गल्लां बन गईआं ने नासूर, वे माहिआ ,
वृन्दावन जाना ए जरूर वे माहिआ ॥

चन्ना, तेरी मेरी यह नाशवान गति मति ए,
बांके बिहारी मेरा सच्चा प्राण पति ए ।
नाता साडा जग दस्तूर, वे माहिआ,
वृन्दावन जाना ए जरूर वे माहिआ ॥

गल्ल बनदी नहिओ प्यार बिना...
दिल लगदा नहीं दिलदार बिना...

आखां ‘‘मधुप’ मैनु टोक ना वे सोहणेया,
वृन्दावन जानो मैनु रोक ना वे सोहणेया ।
मैं ता हो गयी ओहदे रंग नूरो नूर, वे माहिआ



vrindavan jana e jaroor ve maiya Punjabi bhajan by Sarabmohan Tinu Singh



Bhajan Lyrics View All

ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना