Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

विच्च पहाड़ां गुफा दे अन्दर, मन्दिर एक निराला ए
बारो महीने खुलेया रेह्न्दा, ना बुहा ना ताला ए

विच्च पहाड़ां गुफा दे अन्दर, मन्दिर एक निराला ए
बारो महीने खुलेया रेह्न्दा, ना बुहा ना ताला ए

जय माता दी केहन्दे केहन्दे चढ़दे लोग चढाईआं ने
इक पासे ने ऊँचे पर्वत दूजे पासे खाईयां ने
फिर वी जो दर्शन नु आउँदा, समझो किस्मत वाला ए
बारो महीने खुलेया रेह्न्दा...

औंदी जांदी संगता दा जित्थे रेला लगया रेह्न्दा ए
दिन होव या रात होव बस मेला सजिया रेह्न्दा ए
हर कोई लावे माँ दे जयकारे, की गोरा की काला ए
बारो महीने खुलेया रेह्न्दा...

निकीयां निकीयां कंजका दे विच्च माँ दा रूप नज़र आवे
पूजे कंजका पावे असीसा, उस्दा भाग सवार जावे
हुंदे दूर गमां दे हनेरे मिलदा सुख दा उजाला ए
बारो महीने खुलेया रेह्न्दा...

की की सिफत करां इस दर दी जित्थों सब कुछ मिलदा ए
वास है माँ दा जिसदी रजा बिन पत्ता वी न हिल्दा ए
दास एह ही मात वैष्णो एही मात जवाला ए



vich pahadan gufa de andar mandir ek nirala e baro mahine khuleya rehnda na buha na tala e



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा