Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

वे मैं नचना तेरे नाल, जग नू नचान वालेया।
तू वी नच लै अज्ज सादे नाल, जग नू नचान वालेया ॥

वे मैं नचना तेरे नाल, जग नू नचान वालेया।
तू वी नच लै अज्ज सादे नाल, जग नू नचान वालेया ॥

नित तू नचावे अज तेनु नाचावंगे,
रुस जेगा ओह ते हत्थ जोड़ के मनावागे,
अज नच के तू करदे नेहाल, जग नू नचान वालेया॥

तन वी है रंगना ते मन वी है रंगना।
अज तेरे नाल श्यामा अंग अंग रंगना।
आजा बंसरी वजा तू साडे नाल, जग नू नचान वालेया॥

जग दी हुण सानू कोई परवाह नहीं,
तेरे जेहा बेड़ियाँ दा कोई वी मलाह नहीं।
भावे डोब जा भावे कर पार, जग नू नचान वालेया॥

अज वी ना नाचेओ ते दस कदो नचेगा।
प्रेमिया दे हाड़ेया तो किना चिर बचेगा।
आना पयेगा हो के दयाल, जग नू नचान वालेया॥

गोपियाँ वी होणगीयां ते ग्वाले वी होणगे।
रल मिल नाल तेरे, रास रचाणगे।
आजा लै के तू  राधा जी नू नाल, जग नू नचान वालेया॥

हुण वी ना नाचेओ ते यारी टूट जायेगी।
तेरे नाल श्यामा सारी संगत रूस जाएगी।
ग्वाले रूस जाणगे  एह गोपी रूस जायेगी।
आजा नच के तू कर दे कमाल, जग नू नचान वालेया॥

नच ले वे श्यामा हुन कहणु शर्माना ए।
कर के इशार्रे क्यों लुक लुक जान ए,
लुक लुक जान ए ते क्यों तडपाना ए।
जदों मन लिया तेनु अपना यार,जग नू नचान वालेया॥

तूही मेरा यार ते प्यार वी तू है।
दिल वी तू दिलदार वी तू है।
तूही मेरे सर सिरताज वी तू ही है।
तूही मेरा दरद ते दावा भी तू है।
तूही मेरा जिगर ते जान वी तू है।



ve main nachna tere nal jag nu nachaan waleya krishna bhajan



Bhajan Lyrics View All

बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा