Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

तनधन बाबा के सागे आज्यो माँ नारायणी
कद स्यूं टाबरिया थारी बाट निहारे है

तनधन बाबा के सागे आज्यो माँ नारायणी
कद स्यूं टाबरिया थारी बाट निहारे है
थांसू अरज गुजारे है
पधारो माँ नारायणी...
तनधन बाबा के सागे आज्यो माँ नारायणी

आया सपरिवार आज म्हे
दादी आस बंधा जाओ
तनधन बाबा के सागे म्हारी कुटिया में आ जाओ
आओ जी आओ कुल को मान बढ़ाओ जी
गठजोड़े से थे भी जात लगाओ जी
पधारो माँ नारायणी...
तनधन बाबा के सागे आज्यो माँ नारायणी

जैसो थारो रूप मैया जग में सबसे न्यारो है
वैसो ही तनधन बाबा भी लागे म्हाने प्यारो है
मनड़े में आई जो सब थाने बताई है
बेगा आवो दादी क्यों देर लगाईं है
पधारो माँ नारायणी...
तनधन बाबा के सागे आज्यो माँ नारायणी

रयो आसरो थारो हरदम
और नहीं मैं कुछ जानू
थे आवो सब कारज होवे
मैं तो बस यो ही मानु
अंकुश दादी अब थारे सै के छानी है
हीबड़े री बात घनेरी थाने बतानी है
पधारो माँ नारायणी...
तनधन बाबा के सागे आज्यो माँ नारायणी



tandhan baba ke saage aajyo maa narayani with lyrics



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से