Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

श्याम के बिना तुम आधी,
तुम्हारे बिना श्याम आधे

श्याम के बिना तुम आधी,
तुम्हारे बिना श्याम आधे
       राधे राधे राधे राधे,
       राधे राधे राधे राधे
आठो पहर जो रहे अंग संग,
उस संवारे की एक झलक दिखला दे
       राधे राधे राधे राधे,
       राधे राधे राधे राधे

मैं तो संवारे के रंग मे रांची
   बाँध घुघरू भी पग मे नाची
एसो निष्ठुर भयो यशोदा का लाला
   बात मेरे ह्रदय की ना मानी
अपनो के संग यू करते नही
   संवारे को नेक समझा दे
       राधे राधे राधे राधे
       राधे राधे राधे राधे

छवि श्याम की बसाई लई चित मे
   कड़ी वाट निहारू नित्त नित्त मैं
श्याम के बिना मुझे कुछ ना सुझे
   श्याम के बिना जाऊ कित मैं
कैसे बूझे प्यास नयनो की
   रास्ता कोई तो बतला दे
       राधे राधे राधे राधे
       राधे राधे राधे राधे

कही केशव कही पे कन्हैया
   कही नटवर रास रचैया
भक्तो की नैय्या अटकी भावर मे
   पार कर देना बन के खेवया
विनती सरल सी इतनी सी
   बंसी बजैया तक पहुचा दे
       राधे राधे राधे राधे



shyam ke bina tum aadhi tumhare bina shyam aadhe radhe radhe



Bhajan Lyrics View All

हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता