Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

श्याम बुलावे राधा नही आवे
आजा मेरी प्यारी राधे बागो मैं झूले पड़े

श्याम बुलावे राधा नही आवे
आजा मेरी प्यारी राधे बागो मैं झूले पड़े

कैसे मैं आऊ बिंदिया मोरी चमके
बिंदिया मोरी चमके बिंदिया मोरी चमके
बिंदिया को उतार के  माथे पे टिक्का ला के
चली आओ राधा रानी बागो मैं झूले पड़े

कैसे मैं आऊ नथनी मोरी चमके
नथनी मोरी चमके नथनी मोरी चमके
नथनी को उतार के छोटा कोका डाल के
चली आओ राधा रानी बागो मैं झूले पड़े

कैसे मैं आऊ चूड़ी  मोरी खनके  
चूड़ी मोरी खनके चूड़ी मोरी खनके
चूड़ी को उतार को हाथो मैं कंगन डाल के
चली आओ राधा रानी बागो मैं झूले पड़े

कैसे मैं आऊ सास मोरी जागे
सास मोरी जागे सास मोरी जागे
सास को सुला के पाऊं को दबा के



shyam bulave radha nahi ave aja meri payari radhe bago me jhule pade



Bhajan Lyrics View All

कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥