Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

ਸ਼ਰਧਾ ਹੋਵੇ ਦਿੱਲ ਵਿੱਚ ਤਾਂ ਮਨਜ਼ੂਰੀਆਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਨੇ,
ਮੇਰੀ ਮਾਂ ਦੇ ਦਰ ਤੇ ਸਭ ਦੀਆਂ ਆਸਾਂ ਪੂਰੀਆਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਨੇ।

ਸ਼ਰਧਾ ਹੋਵੇ ਦਿੱਲ ਵਿੱਚ ਤਾਂ ਮਨਜ਼ੂਰੀਆਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਨੇ,
ਮੇਰੀ ਮਾਂ ਦੇ ਦਰ ਤੇ ਸਭ ਦੀਆਂ ਆਸਾਂ ਪੂਰੀਆਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਨੇ।

ਤਾਜੋ-ਤਖ਼ਤ ਬੁਲੰਦੀਆਂ ਬਖ਼ਸ਼ੇ ਮੇਰੀ ਭੋਲੀ ਮਾਂ,
ਮਿਹਰਾਂ ਵਾਲੀ ਮਾਂ ਦੇ ਭਗਤੋ ਕੋਈ ਵੀ ਕਮੀਆਂ ਨਾ,
ਦਾਤੀ ਕਿਰਪਾ ਨਾਲ ਹੀ ਜਗ ਮਸ਼ਹੂਰੀਆਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਨੇ,
ਮੇਰੀ ਮਾਂ ਦੇ ਦਰ ਤੇ...

ਮਨ ਮੰਦਰ ਵਿੱਚ ਜੋਤਾਂ ਮਾਂ ਦੀਆਂ ਜਿਨ੍ਹਾਂ ਜਗਾਇਆ ਨੇ,
ਮਾਂ ਚਰਨਾਂ ਸੰਗ ਪ੍ਰੇਮ ਡੋਰੀਆਂ ਜਿਨ੍ਹਾਂ ਨੇ ਪਾਈਆਂ ਨੇ,
ਮਸਤ ਰਹਿਣ ਸਦਾ ਚੜਿਆਂ ਨਾਮ ਸਰੂਰੀਆਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਨੇ,
ਮੇਰੀ ਮਾਂ ਦੇ ਦਰ ਤੇ...

ਤੱਤੀ ਵਾਹ ਨਾ ਲੱਗਣ ਦੇਵੇ ਆਪਣੇ ਲਾਲਾਂ ਨੂੰ,
ਬਿਨ ਦੱਸਿਆ ਸਰ ਜੀਵਨ ਮਾਂ ਹੱਲ ਕਰੇ ਸਵਾਲਾਂ ਨੂੰ,
ਬੱਚਿਆਂ ਕੋਲੋਂ ਮਾਂ ਦੀਆਂ ਕਦੇ ਨਾ ਦੂਰੀਆਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਨੇ,
ਮੇਰੀ ਮਾਂ ਦੇ ਦਰ ਤੇ...
ਸ਼ੇਰਾ ਵਾਲੀ ਦੇ ਦਰ ਤੇ...



shradha hove dil vich ta manjuriya hundiya ne



Bhajan Lyrics View All

राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।