Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

जिसने लिखी अपने हाथो से
दुनिया की तकदीर

जिसने लिखी अपने हाथो से
दुनिया की तकदीर
शिर्डी में वो आया देखो
बनके एक फ़कीर

शिर्डी साईं द्वारका माई
सर्वान्तर्यामी साईं राम

शिर्डी साईं द्वारका माई
सर्वान्तर्यामी साईं राम

साईं राम, राधे श्याम
मेघ श्याम सुन्दर नाम

अल्ला इश्वर साईं राम,
शिर्डी पूरी के हे भगवान

दया करो, कृपा करो,
क्षमा करो हे साईं राम

साईं राम राधे श्याम
मेघ श्याम सुन्दर नाम
शिर्डी साईं द्वारका माई
सर्व अन्तर्यामी साईं राम

शिर्डी निवासा साईं राम
द्वारका माई साईं राम

कृष्णा राम राधे श्याम
सबका मालिक साईं राम

साईं राम, राधे श्याम
मेघ श्याम सुन्दर नाम
शिर्डी साईं द्वारका माई
सर्वान्तर्यामी साईं राम

अल्ला इश्वर साईं राम,
शिर्डी पूरी के हे भगवान

दया करो, कृपा करो,
क्षमा करो हे साईं राम

साईं राम, राधे श्याम
मेघ श्याम सुन्दर नाम
शिर्डी साईं, द्वारका माई
सर्वान्तर्यामी साईं राम

शिर्डी निवासा साईं राम
द्वारका माई साईं राम

कृष्णा राम राधे श्याम
सबका मालिक साईं राम

साईं राम, राधे श्याम
मेघ श्याम सुन्दर नाम
शिर्डी साईं द्वारका माई
सर्वान्तर्यामी साईं राम

साईं राम…..



shirdi sai dwarkamai savarantarjami sai ram



Bhajan Lyrics View All

मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।