Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

सब कुछ बदल जाता है यहाँ,पर लेख विधि का बदलता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,

सब कुछ बदल जाता है यहाँ,पर लेख विधि का बदलता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

मीरा हो गई तेरी दीवानी,इकतारे पे भजन किया,
तेरे भगत को चैन से मोहन राणा ने जीने ना दिया,
फिर कोई ना करता भरोसा,विष अमृत जो बनता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

भरी सभा में द्रुपद सुता का चीर दुशासन हरने लगा,
पांडव कुल की पटरानी के आँख से आंसू झरने लगा,
फिर कोई ना करता भरोसा,चीर द्रौपदी का जो बढ़ता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

हे प्रभु तेरे भगत को मेरा बारम्बार है प्रणाम,
बनवारी मैं किस लायक हूँ,देना चरणों में स्थान,
प्रभु से मिलना बड़ा सरल है,भक्त प्रभु का मिलता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

सब कुछ बदल जाता है यहाँ,पर लेख विधि का बदलता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

भजन गायक - सौरभ मधुकर



sab kuch badal jata hai yaha par lekh vidhi ki badalta nahi bhagat ka maan kabhi talta Nahi with lyrics by Saurabh Madhukar



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर