Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

सब कुछ बदल जाता है यहाँ,पर लेख विधि का बदलता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,

सब कुछ बदल जाता है यहाँ,पर लेख विधि का बदलता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

मीरा हो गई तेरी दीवानी,इकतारे पे भजन किया,
तेरे भगत को चैन से मोहन राणा ने जीने ना दिया,
फिर कोई ना करता भरोसा,विष अमृत जो बनता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

भरी सभा में द्रुपद सुता का चीर दुशासन हरने लगा,
पांडव कुल की पटरानी के आँख से आंसू झरने लगा,
फिर कोई ना करता भरोसा,चीर द्रौपदी का जो बढ़ता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

हे प्रभु तेरे भगत को मेरा बारम्बार है प्रणाम,
बनवारी मैं किस लायक हूँ,देना चरणों में स्थान,
प्रभु से मिलना बड़ा सरल है,भक्त प्रभु का मिलता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

सब कुछ बदल जाता है यहाँ,पर लेख विधि का बदलता नहीं,
प्रभु का मान भले टल जाए,भगत का मान कभी टलता नहीं,
भगत का मान कभी टलता नहीं.....

भजन गायक - सौरभ मधुकर



sab kuch badal jata hai yaha par lekh vidhi ki badalta nahi bhagat ka maan kabhi talta Nahi with lyrics by Saurabh Madhukar



Bhajan Lyrics View All

बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।