Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

रसिया लागे साँवरिया देखो फागण में
रसिया लागे रे...रसिया लागे रे...

रसिया लागे साँवरिया देखो फागण में
रसिया लागे रे...रसिया लागे रे...

ई रसियै की लीला म्हे तो वृन्दावन में देखि जी
हो...नित नया स्वांग,नित नया रास रचावै सांवरा
देखो फागण में...देखो फागण में...

ई रसियै की लीला म्हे तो ब्रज नगरी में देखि जी
हो...माखन चुरावे मटकी फोड़े सांवरा,
देखो फागण में...देखो फागण में...

ई रसियै की लीला म्हे तो यमुना तट पर देखि जी
हो...मीठी-मीठी बांसुरी बजावै सांवरा,
देखो फागण में...देखो फागण में...

ई रसियै की लीला म्हे तो खाटू माहि देखि जी
हो...भगतां के सागे होली खेले सांवरा,
देखो फागण में...देखो फागण में...

रसिया लागे साँवरिया देखो फागण में



rasiya lage sawariya dekho fagan me with lyrics by Saurav Madhukar



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,