Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

रंगा दी बहार होली आयी है -२
शावा होली आयी है, बल्ले होली आयी है -२

रंगा दी बहार होली आयी है -२
शावा होली आयी है, बल्ले होली आयी है -२
फुल्ला दी बहार होली आयी है -२

नन्द गांव दा सोहणा मंदर, निकले श्याम मुरारी -२
बरसाने दी गालिया विचो आ गयी राधा प्यारी, की होली आयी है ,रंगा...

कान्हा मेरा होली खेले हाथ विच फड़ पिचकारी -२
गोरी गोरी राधा उत्ते श्याम ने मारी पिचकारी, की होली आयी है ,रंगा...

कान्हा मेरा होली खेले मुख विच भरके रंग -२
देख श्याम दी होली नु सब हो गए मस्त मलंग, की होली आयी है ,रंगा...

जदो श्याम मेरा होली खेले झूम उठे जग सारा -२
सूरज तक्के चंदा तक्के, तक्के इक इक तारा,की होली आयी है ,रंगा...

देख श्याम दी होली नु भोले नु चढ़ गया रंग,



ranga di bahar holi aayi hai hori bhajan



Bhajan Lyrics View All

तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा