Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

राधे राधे गाये जा
गोबिंद को रिझाये जा

राधे राधे गाये जा
गोबिंद को रिझाये जा
गोबिंद को रिझाये जा गोपाल को रिझाये जा

श्री कृष्ण शिरोमणि श्री राधा
जय श्याम संजीवनी श्री राधा
जय रास विलासिनी श्री राधा
नित कुञ्ज निवासिनी राधा
गोबिंद को रिझाये जा गोपाल को रिझाये जा
राधे राधे गाये जा-
गोबिंद को रिझाये जा

वृन्दावन रानी श्री राधा
मोहनमन मानी  श्री राधा
ब्रज चंद्र चकोरी श्री राधा
वृषभानु किशोरी श्री राधा
गोबिंद को रिझाये जा गोपाल को रिझाये जा
राधे राधे गाये जा-
गोबिंद को रिझाये जा

मंगल की मूर्ति श्री राधा
ब्रज जन सुख पूर्ति श्री राधा
जय नख चन्द्रावली श्री राधा
प्रीतम प्रेमवाली श्री राधा
गोबिंद को रिझाये जा गोपाल को रिझाये जा
राधे राधे गाये जा-
गोबिंद को रिझाये जा

गोपाल उपासनी श्री राधा
अति रूप उजारि श्री राधा
नटनागर भामा श्री राधा
परिपूर्ण कामा श्री राधा
गोबिंद को रिझाये जा गोपाल को रिझाये जा
राधे राधे गाये जा-



radhe radhe gaaye ja gobind ko rijhaye ja



Bhajan Lyrics View All

कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे