Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

दोहा : श्रीराधे वृषभानुजा, भक्तन प्राणाधार
वृन्दा विपिन  विहारिन्नी , प्रन्नावो बारम्बार

दोहा : श्रीराधे वृषभानुजा, भक्तन प्राणाधार
वृन्दा विपिन  विहारिन्नी , प्रन्नावो बारम्बार
जैसो तैसो रावरो, कृष्ण-प्रिया सुखधाम
चरण शरण निज दीजियो, सुन्दर सुखद ललाम  

जय राधा माधव, जय गोपी जन, श्री वृन्दावन धाम
जय कालिनिदी, कूल लता, जय सुभग कुञ्ज अभिराम
जयति नन्द कुल, कुमुद कलाधर, कोटि काम छवि धार
जय कीरति कुल, नवल च्द्रिका रसिक किशोरी ललाम
जयति नवनागरी  रूप गुण आगरी, सकल सुख सागरी, कुवरी राधा
जाती हरी भामिनी, शाम अर्धांगिनी, हरी प्रिया श्री राधा

प्रिय राधे प्रिय राधे, राधे राधे प्रिया प्रिया
प्रिय श्यामा, प्रिय श्यामा, श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

राधे राधे प्रिया प्रिया, श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

सर्व सदग्रंथ का सार जानो इसे,
श्री कृष्ण का मोहिनी मंत्र मानो इसे
जाप कर इसका पापी अधम तर गए,
सैंकड़ो अपना जीवन सफल कर गए
ध्यान श्यामा के चरणों का करते रहो,
स्वास प्रति स्वास मन्त्र यही जपते रहो
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

मन्त्र की साधना जो ना अपनावे,
फंस के विषयों में जाने किधर जावे

मन्त्र जपने से भवसिंधु तर जावे,
सुख सहित संतो से संग पावे
श्याम सुंदर भी मन्त्र जपते जपते रहे
प्रेम में राधिका नाम कहने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

रास लीला में एक दिन राधा ना थी,
श्याम ललिता से बोले उनको बुला लीजिये
मुस्कुरा के ललिता यह कहने लगी,
उनको मुरली सुना के मन लीजिये
हस के श्याम मुरलिया बजने लगे,
और मुरली की धुन में येही गाने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

तान बंसरी की सुन, श्री राधिका चल पड़ी
रास मंडल में थी साड़ी सखिया खड़ी
यह निराली अदा श्याम सिखला रहे
देवता पुष्प थे सब पे बरसा रहे
कौन आया कौन गया यह कुछ भी पता नहीं
मिल के सब एक स्वर में कहने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

श्री राधिका श्याम सुन्दर के संग हो खड़ी,
रास मंडल की छोभा बढाने लगी
राधा मोहन की मनमोहनी छबि निरख,
गोपिया नाचने और गाने लगीं
बज रहे डोलना, छेने, मृदंग,
सब के मुख से निकल रहे यही बोल थे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

श्याम उद्धव से एक दिन कहने लगे,
मधुपुरी का यह वैभव सुहाता नहीं
क्या बताऊँ तुम्हे मेरे प्यारे सखा,
प्रेम ब्रज वासिओ का मैं भुला पाता नहीं
इतना कहते ही सरकार आसूं बहाने लगे,
श्याम हो के विकल्प एही कहने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

रुकमनी से कहा एक दिन श्याम ने,
द्वारिका में भी मनमौज मैं पाता नहीं
जिन्हों ने निछावर मुझ पर सर्वस किया,
उनके ऋण से उऋण हो पाता नहीं
आ गयी याद ब्रिग्दिन्हू बहाने लगे,
प्रेम में मस्त हो श्याम यह कहने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया



priye radhe priye radhe, radhe radhe priya priya



Bhajan Lyrics View All

तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा