Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

दोहा : श्रीराधे वृषभानुजा, भक्तन प्राणाधार
वृन्दा विपिन  विहारिन्नी , प्रन्नावो बारम्बार

दोहा : श्रीराधे वृषभानुजा, भक्तन प्राणाधार
वृन्दा विपिन  विहारिन्नी , प्रन्नावो बारम्बार
जैसो तैसो रावरो, कृष्ण-प्रिया सुखधाम
चरण शरण निज दीजियो, सुन्दर सुखद ललाम  

जय राधा माधव, जय गोपी जन, श्री वृन्दावन धाम
जय कालिनिदी, कूल लता, जय सुभग कुञ्ज अभिराम
जयति नन्द कुल, कुमुद कलाधर, कोटि काम छवि धार
जय कीरति कुल, नवल च्द्रिका रसिक किशोरी ललाम
जयति नवनागरी  रूप गुण आगरी, सकल सुख सागरी, कुवरी राधा
जाती हरी भामिनी, शाम अर्धांगिनी, हरी प्रिया श्री राधा

प्रिय राधे प्रिय राधे, राधे राधे प्रिया प्रिया
प्रिय श्यामा, प्रिय श्यामा, श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

राधे राधे प्रिया प्रिया, श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

सर्व सदग्रंथ का सार जानो इसे,
श्री कृष्ण का मोहिनी मंत्र मानो इसे
जाप कर इसका पापी अधम तर गए,
सैंकड़ो अपना जीवन सफल कर गए
ध्यान श्यामा के चरणों का करते रहो,
स्वास प्रति स्वास मन्त्र यही जपते रहो
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

मन्त्र की साधना जो ना अपनावे,
फंस के विषयों में जाने किधर जावे

मन्त्र जपने से भवसिंधु तर जावे,
सुख सहित संतो से संग पावे
श्याम सुंदर भी मन्त्र जपते जपते रहे
प्रेम में राधिका नाम कहने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

रास लीला में एक दिन राधा ना थी,
श्याम ललिता से बोले उनको बुला लीजिये
मुस्कुरा के ललिता यह कहने लगी,
उनको मुरली सुना के मन लीजिये
हस के श्याम मुरलिया बजने लगे,
और मुरली की धुन में येही गाने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

तान बंसरी की सुन, श्री राधिका चल पड़ी
रास मंडल में थी साड़ी सखिया खड़ी
यह निराली अदा श्याम सिखला रहे
देवता पुष्प थे सब पे बरसा रहे
कौन आया कौन गया यह कुछ भी पता नहीं
मिल के सब एक स्वर में कहने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

श्री राधिका श्याम सुन्दर के संग हो खड़ी,
रास मंडल की छोभा बढाने लगी
राधा मोहन की मनमोहनी छबि निरख,
गोपिया नाचने और गाने लगीं
बज रहे डोलना, छेने, मृदंग,
सब के मुख से निकल रहे यही बोल थे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

श्याम उद्धव से एक दिन कहने लगे,
मधुपुरी का यह वैभव सुहाता नहीं
क्या बताऊँ तुम्हे मेरे प्यारे सखा,
प्रेम ब्रज वासिओ का मैं भुला पाता नहीं
इतना कहते ही सरकार आसूं बहाने लगे,
श्याम हो के विकल्प एही कहने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया
जय श्यामा श्यामा प्रिया प्रिया

रुकमनी से कहा एक दिन श्याम ने,
द्वारिका में भी मनमौज मैं पाता नहीं
जिन्हों ने निछावर मुझ पर सर्वस किया,
उनके ऋण से उऋण हो पाता नहीं
आ गयी याद ब्रिग्दिन्हू बहाने लगे,
प्रेम में मस्त हो श्याम यह कहने लगे
जय राधे राधे प्रिया प्रिया



priye radhe priye radhe, radhe radhe priya priya



Bhajan Lyrics View All

बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन