Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

वाह मेरे कृष्णा तेरी कुदरत, ते तेरिया बेपरवहिया
       जेरहिया गल्ला मेरे चित्त न चेते, आज ओहि देखन

वाह मेरे कृष्णा तेरी कुदरत, ते तेरिया बेपरवहिया
       जेरहिया गल्ला मेरे चित्त न चेते, आज ओहि देखनी आया

पई वक़्त दी कैसी मैनू मार वे, पांडव जूए विच गए मैनू हार वे ।
लाज रख ले तू मुरली वालेया, घिरी गौ अज्ज शेरा विचकार वे ॥

वाला तो मैनू फड़के दुःशासन विच सभा ले आया वे,
दुर्योधन ने चीरहरण दा अज्ज है हुकम सुनाया वे ।
पंजो पांडो योद्धे बड़े बलधार वे, किवे बैठे अज्ज होके लाचार वे,
सर भीष्म पितामह ने झुका लेया, खोरे करदे की सोच विचार वे ॥
लाज रख ले तू मुरली वालेया...

राज पाठ सब हर गए पांडव, किंज हामी भर जावणगे,
जेकर तेरी मेहर न होई, इज़्ज़त वी हर जावणगे ।
खेडा खेड गया शूकनी मक्कार वे, पैगई कुंजा ताहि बाजा दी डार वे ,
रेहा गोपिया दे नाल जे तू खेड दा, मेरा लुट्या जाओ संसार वे ॥
लाज रख ले तू मुरली वालेया...

सुनियाँ अर्जां जद गिरधर ने, झटपट आन पधारे ने,
ऐसी किरपा किती पापी खिचखिच पल्ले हारे ने ।
साड़ी मुकी नईो मुक्के हंकार ने, सब वेख वेख करदे विचार ने,
आखे ‘कर्मा’ ‘सिकन्दर’ प्रेमियों, लाज द्रोपदी दी रखीं करतार ने,



payi waqt di kaisi mainu maar ve laaj rakh le tu murli waleya dropti cheer haran bhajan by Sardool Sikandar



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।