Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

तुम्हें सिर्फ याद करने से तुफान भी हट जाते हैं,
जुबान पे नाम जो आए तो समंदर भी सिमट जाते है ।।

तुम्हें सिर्फ याद करने से तुफान भी हट जाते हैं,
जुबान पे नाम जो आए तो समंदर भी सिमट जाते है ।।

अम्बा के नंदन, हे दुख भंजन, सुन लो अब तो विनती हमारी,
नाकोड़ावाले भैरू बाबा, लीला तेरी हैं सबसे निराली,
कबसे खड़े है दर पे तुम्हारे, ईच्छा करने की हुई पुजा तुम्हारी,
नाकोड़ावाले भैरू बाबा, लीला तेरी हैं सबसे निराली..

ओ मेरे भैरू देवा, करे पारस की सेवा,
ध्यान जो भी लगाएं, अमरपद को वो पाएं ।
भक्त जो राह भटके, चाहे मार्ग में अटके,
उन्हें मार्ग दिखाएं, चलना उनको सिखाएं ।
अमीरों का सहारा, गरीबों का गुजारा,
कैसे इस जग में अब नैय्या पार लगाएं ।
कोई ना साथी, कोई ना मांझी,
डूबती नैय्या को गर ना उबारें ।
नाकोड़ावाले भैरू बाबा, लीला तेरी हैं सबसे निराली..

भक्त करें मांग तबकी, तुम्हें हैं याद सबकी,
निपुत को पुत देता, रोटी भुखे को देता ।
बिछुडो को मिलाता, धैर्य मायुस को देता,
जिसे सबने गिराया, उसे तुने संभाला ।
तुने दुनियां संवारी, क्यों ना सुनता हमारी,
भैरू की कव्वाली को, भक्त मोहन ये गाएं,
लाएं मुरादें, मन में संजोए,
आएं चौकट पे लाखो नर-नारी ।।



nakodawale bhairu baba, leela teri hai sabse nirali



Bhajan Lyrics View All

यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे