Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मुझे मस्ती चढ़ गयी नाम की मुझे मस्ती चढ़ गयी ॥
जब मस्ती चढ़ गयी नाम की, फिर ये दुनिया किस काम की

मुझे मस्ती चढ़ गयी नाम की मुझे मस्ती चढ़ गयी ॥
जब मस्ती चढ़ गयी नाम की, फिर ये दुनिया किस काम की
मुझे मस्ती चढ़ गयी नाम की मुझे मस्ती चढ़ गयी॥

बिन मस्ती के मैया जी कोई भेटें गा नहीं पायेगा॥,
भेटें गा नहीं पायेगा,भेटें गा नहीं पायेगा
हो कोई लिख नहीं पायेगा और कोई गा नहीं पायेगा॥,
कोई गा नहीं पायेगा, कोई गा नहीं पायेगा
ओ मां के नाम की मस्ती भक्तों, ओ मां के नाम की मस्ती भक्तों,
इतनी नहीं है सस्ती
मुझे मस्ती चढ़ गयी नाम की मुझे मस्ती चढ़ गयी

मस्ती चढ़ गयी राधा जी को मिल गए मोहन प्यारे॥,
मिल गए मोहन प्यारे, मिल गए मोहन प्यारे,
ओ राधा के संग मोहन लगते सबको बड़े ही प्यारे,
सबको बड़े ही प्यारे, लगते सबको बड़े ही प्यारे
ओ मां के नाम की मस्ती भक्तों, मां के नाम की मस्ती भक्तों,
यहीं पे है बस मिलती
मुझे मस्ती चढ़ गयी नाम की मुझे मस्ती चढ़ गयी

ओ भक्ति की मस्ती में ध्यानु ने भी शीश चढ़ाया॥,  
ध्यानु ने शीश चढ़ाया, मां ध्यानु ने शीश चढ़ाया,
ओ पवान्स्वरूपा मां ने आ के उसका शीष मिलाया,
उसका शीष मिलाया, मां ने उसका शीष मिलाया
ओ बन गया ध्यानु माँ का लाडला, उसकी बन गयी हस्ती
मुझे मस्ती चढ़ गयी नाम की मुझे मस्ती चढ़ गयी

जब मस्ती चढ़ गयी नाम की, फिर ये दुनिया किस काम की
मुझे मस्ती चढ़ गयी नाम की मुझे मस्ती चढ़ गयी
मुझे मस्ती चढ़ गयी नाम की मुझे मस्ती चढ़ गयी



muje masti chad gi naam ki muje masti chad gi jab masti chad gi naam ki phir yeh duniya kis kam ki



Bhajan Lyrics View All

किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम