Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

नैया को खिवैया श्याम तू ही,मेरे जीवन को आधार,
यार मेरा सांवरिया......

नैया को खिवैया श्याम तू ही,मेरे जीवन को आधार,
यार मेरा सांवरिया......
मन मोहन मदन मुरारी तू २,मेरे हिवड़े मालो हार
यार मेरा सांवरिया....

महासू काई नाराजी हे,तू मस्तानो माझी हे,
देर करया नको नहीं पीसी तुफानो से बाजी हे,
ये नैना जोहे बाटड़ली २ मेरी छूट रही पतवार
यार मेरा सांवरिया....

ये काली काली राता,कुन सुने मन की बाता २
कयामें अटक्यो देर करि तू इतनी आता आता,
बिन थारे सुन्दर श्याम मेरो,यो सुनो हे संसार
यार मेरा सांवरिया....

आज्या क्यू तरसावे हे, जीव घणो दुःख पावे हे २,
तू रसिया काठो बन बेठ्यो धीरज छुट्यो जावे हे,
इ दुखिया दिल को सांवरिया,मेरो सांचो तुई करार
यार मेरा सांवरिया....

मेरो तू दिलदार तू ही,कंत बसंत बहार तुई,२
मन मंदिर को ठाकुर हे ,बिना तार को तार तुहि
शिवश्याम बहादुर श्याम श्याम सु,जन्मं जनम को प्यार



mere jiwan ko aadhar naiya ko khawaya shyam tu hi



Bhajan Lyrics View All

सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,