Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मेरा काली कमली वाले ने दिल लूट लिया,
लूट लिया, दिल लूट लिया ।

मेरा काली कमली वाले ने दिल लूट लिया,
लूट लिया, दिल लूट लिया ।
कजरारे नैनो वाले ने दिल लूट लिया ॥

मेरे दिल में बस गया आ कर सुन्दर श्याम सलोना,
उस बांके की बाँकी अदा ने कर दिया मुझ पर टोना ।
तिरछी चित्तवन वाले ने दिल लूट लिया,
कजरारे नैनो वाले ने दिल लूट लिया ॥

जब से देखि सांवरी सूरत हर पल रहूँ मैं खोयी,
रात दिन तेरी याद सताए छुप छुप बैठ के रोयी ।
उस छैल छबीले ग्वाले ने दिल लूट लिया,
मेरा काली कमली वाले ने दिल लूट लिया ॥

एक झलक क्या देखि तेरी हम तेरे हो बैठे,
तेरी सांवरी सूरतिया पे दिल अपना खो बैठे ।
चीत्त चोर कन्हैया काले ने दिल लूट लिया,
मेरा काली कमली वाले ने दिल लूट लिया ॥

तेरी प्रीत में पागल होकर डोलूं वन वन प्यारे,
‘चित्र विचित्र’ का व्याकुल मन अब कैसे धीरज धारे ।
बांके वृन्दावन वाले ने दिल लूट लिया,



mera kali kamli wale ne dil loot liya krishna bhajan by Chitra Vichitra



Bhajan Lyrics View All

जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है