Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मेरा काली कमली वाले ने दिल लूट लिया,
लूट लिया, दिल लूट लिया ।

मेरा काली कमली वाले ने दिल लूट लिया,
लूट लिया, दिल लूट लिया ।
कजरारे नैनो वाले ने दिल लूट लिया ॥

मेरे दिल में बस गया आ कर सुन्दर श्याम सलोना,
उस बांके की बाँकी अदा ने कर दिया मुझ पर टोना ।
तिरछी चित्तवन वाले ने दिल लूट लिया,
कजरारे नैनो वाले ने दिल लूट लिया ॥

जब से देखि सांवरी सूरत हर पल रहूँ मैं खोयी,
रात दिन तेरी याद सताए छुप छुप बैठ के रोयी ।
उस छैल छबीले ग्वाले ने दिल लूट लिया,
मेरा काली कमली वाले ने दिल लूट लिया ॥

एक झलक क्या देखि तेरी हम तेरे हो बैठे,
तेरी सांवरी सूरतिया पे दिल अपना खो बैठे ।
चीत्त चोर कन्हैया काले ने दिल लूट लिया,
मेरा काली कमली वाले ने दिल लूट लिया ॥

तेरी प्रीत में पागल होकर डोलूं वन वन प्यारे,
‘चित्र विचित्र’ का व्याकुल मन अब कैसे धीरज धारे ।
बांके वृन्दावन वाले ने दिल लूट लिया,



mera kali kamli wale ne dil loot liya krishna bhajan by Chitra Vichitra



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया,
सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया।
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो