Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

जे मैं हुंडी मिट्टी दी मटकी रंग मेनू चढ़ जांदा,
माखन बनके श्याम मेरे ली मूल मेरा पे जांदा

जे मैं हुंडी मिट्टी दी मटकी रंग मेनू चढ़ जांदा,
माखन बनके श्याम मेरे ली मूल मेरा पे जांदा
माखन ली जद प्यारे आंदे,
मैं तेरी मैं तेरी वे कान्हा मैं तेरी,

यमुना तट पे चली मैं इकली मिल गये श्याम प्यारे,
देखि उस प्यारे तू सखियों भूल गई कम सारे,
मटकी रख प्रीतम नु भुलवा, आजा श्याम पिया रे,
राधा जी दी किरपन मन के आजा श्याम प्यारे,
चरण पकड़ हूँ कहन लगी, मैं मैं तेरी मैं तेरी
मैं तेरी मैं तेरी वे कान्हा मैं तेरी,


बिनती करा नाले तरले पावा,
अपनी कह दे प्यारे तेरी तेरी मेनू हर कोई कहंदा तू अपनी कह दे प्यारे,
कण खोल के सुन ले प्यारे,
मैं तेरी मैं तेरी वे कान्हा मैं तेरी,

ओसिया पावा नाले कांग उड़वा ,
आवी मेरे प्यारे तेरे मिलन दे खातिर श्यामा भूल गी काम सरे
बेठ बनारे आवाज मारा आवी श्याम प्यारे देखि एन मेनू जनके सखियों आ गये मेरे प्यारे,
दर्श करा नाले तरले पावा आखा मैं तेरी,



main teri main teri ve kanha main teri



Bhajan Lyrics View All

सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला