Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

लहर लहर लहराए चुनरिया मैया की ।
भक्तो के मन भाए, चुनरिया मैया की ।

लहर लहर लहराए चुनरिया मैया की ।
भक्तो के मन भाए, चुनरिया मैया की ।

लाल चुनरिया मैया की, लाल चुनरिया मैया की ।

चुनरी के धागों में भक्तो का प्यार,
करलो मैया जी इसे स्वीकार ।
बड़े प्यार से माए, चुनरिया मैया की,
लहर लहर लहराए चुनरिया मैया की ॥

हां चुनरिया मैया की, हां चुनरिया मैया की...

चुनरी के रंगो में भक्तो का प्यार,
कर देती भक्तो की नैया को पार ।
सब के भाग जगाये, चुनरिया मैया की,
लहर लहर लहराए चुनरिया मैया की ॥

चुनरी की महिमा है सब से अपार,
भर देती पल में सभी के भण्डार ।
कभी ना खली लौटाए, चुनरिया मैया की,
लहर लहर लहराए चुनरिया मैया की ॥

आओ भक्तो माँ को सजाएं,
रंग बिरंगी माँ को चुनरी चढ़ाएं ।
‘चंचल’ करेगी उद्धार, चुनरिया मैया की,



lahar lahar lehraye chunariya maiya ki



Bhajan Lyrics View All

तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का