Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

क्यों पीवे तू पानी हंसिनी,क्यों पीवे तू पानी,
सागर खीर भरा घट भीतर,

क्यों पीवे तू पानी हंसिनी,क्यों पीवे तू पानी,
सागर खीर भरा घट भीतर,
पीयो सूरत तानी हंसिनी,
क्यों पीवे तू पानी ।

जग को जार धसो नभ अंदर,
मंदर परख निशानी हंसिनी,
क्यों पीवे तू पानी ।

गुर मूरत तू धार हिये में,
मन के संग क्यों फिरत निमाणी हंसिनी,
क्यों पीवे तू पानी ।

तेरा काज करे गुर पूरे,
सुन ले अनहद वाणी हंसिनी,
क्यों पीवे तू पानी ।

करम भरम बस सब जग बौरा,
तू क्यों होत दीवानी हंसिनी,
क्यों पीवे तू पानी ।

सूरत सम्भार करो सत-संगत,
क्यों बिख अमृत सानी हंसिनी,
क्यों पीवे तू पानी ।

तेरा धाम अधर में प्यारे,
क्यों धर संग बंधाणी हंसिनी,
क्यों पीवे तू पानी ।

जल्दी करो चढ़ो ऊंचे को,
राधास्वामी कहत बखानी हंसिनी,
क्यों पीवे तू पानी ।



kyo peewe tu paani hansini radhaswami bhajan lyrics



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥