Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

श्याम आया रे घनश्याम आया रे...
झुला झुलो री राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ।

श्याम आया रे घनश्याम आया रे...
झुला झुलो री राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ।
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे ॥

सावन की बरसे है रिमझिम बदरिया,
रिमझिम बदरिया रिमझिम बदरिया ।
तेरी चुनरिया भिगोने ओ राधे तेरा श्याम आया रे ॥
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे,
झुला झुलो रे राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ॥

रेशम की डोरी है चांदी का झुला,
चांदी का झुला, चांदी का झुला ।
झूले पे तुझको बैठाने ओ राधे तेरा श्याम आया रे ॥
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे,
झुला झुलो रे राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ॥

कान्हा के हाथों में साजे मुरलिया,
साजे मुरलिया, साजे मुरलिया ।
मुरली की तान सुनाने ओ राधे तेरा श्याम आया  रे ॥
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे,
झुला झुलो रे राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ॥

हर्ष बुलाये तेरा प्रियतम ओ सजनी,
प्रियतम ओ सजनी, प्रियतम ओ सजनी ।
मधुबन में रास रचाने ओ राधे तेरा श्याम आया  रे ॥
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे,



jhula jhulo ri radhe raani jhulane tera shyaam aaya re



Bhajan Lyrics View All

रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,