Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

श्याम आया रे घनश्याम आया रे...
झुला झुलो री राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ।

श्याम आया रे घनश्याम आया रे...
झुला झुलो री राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ।
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे ॥

सावन की बरसे है रिमझिम बदरिया,
रिमझिम बदरिया रिमझिम बदरिया ।
तेरी चुनरिया भिगोने ओ राधे तेरा श्याम आया रे ॥
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे,
झुला झुलो रे राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ॥

रेशम की डोरी है चांदी का झुला,
चांदी का झुला, चांदी का झुला ।
झूले पे तुझको बैठाने ओ राधे तेरा श्याम आया रे ॥
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे,
झुला झुलो रे राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ॥

कान्हा के हाथों में साजे मुरलिया,
साजे मुरलिया, साजे मुरलिया ।
मुरली की तान सुनाने ओ राधे तेरा श्याम आया  रे ॥
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे,
झुला झुलो रे राधा रानी झुलाने तेरा श्याम आया रे ॥

हर्ष बुलाये तेरा प्रियतम ओ सजनी,
प्रियतम ओ सजनी, प्रियतम ओ सजनी ।
मधुबन में रास रचाने ओ राधे तेरा श्याम आया  रे ॥
श्याम आया श्याम आया श्याम आया रे,



jhula jhulo ri radhe raani jhulane tera shyaam aaya re



Bhajan Lyrics View All

राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर