Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे

राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे

राधे राधे, राधे राधे, गाते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना

आते रहना गाते रहना
आते रहना गाते रहना
राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे

राधे राधे, राधे राधे, गाते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना

वृन्दावन आके तेरे भाग खुल जायेंगे
यमुना नहा के सारे पाप धुल जायेंगे

हमारे कृष्ण की पटरानी है यमुना महारानी, इसलिए
बार बार यमुना नहाते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना

चैन भी मिलेगा, आराम भी मिलेगा
राधा की कृपा से तुम्हे श्याम भी मिलेंगे
राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे

और राधा कृष्ण जब दोनों मिल जायेंगे, तो क्या करोंगे
दोनों को ह्रदय में बसाते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना

वृन्दावन एक बार जो आजायेगा
दिल बार बार फिर से आना चाहेगा
राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे
वृदाबन की परिक्रमा लगाते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना

आओं झूम इन गलियों में
राधे राधे बोलो ब्रज गलियों में
राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे

और क्या करोगे ब्रज की गलियों में
संतो की प्रसादी भी पाते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना

एक बार आके जरा दर्शन तो कर लो
बिहारी जी की छवि को आँखों में भर लो

राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे

और बिहारीजी के दर्शन करके फिर क्या करोगे
चरणों में शीश नवाते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना

कृष्ण का ह्रदय है राधा रानी
और राधा का ह्रदय है ये ब्रज भूमि
राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे
और इस ब्रज भूमि के प्राण है ब्रज रज, इसलिए
ब्रज रज शीश चढाते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना

राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे

राधे राधे, राधे राधे, गाते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना
जल्दी जल्दी वृन्दावन आते रहना

आते रहना, गाते रहना
आते रहना, गाते रहना
राधे राधे, राधे राधे
राधे राधे, राधे राधे

हो राधे राधे, राधे राधे, गाते रहना
हो वृन्दावन आते रहना
आते रहना, गाते रहना
आते रहना, गाते रहना
राधे राधे, राधे राधे



jaldi jaldi vrindavan aate rehna



Bhajan Lyrics View All

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया